खफा भी रहते हैं..

खफा भी रहते हैं और वफ़ा भी करते हैं,
इस तरह वो अपने प्यार को ब्यान भी करते हैं..
जाने कैसी नाराज़गी है उनको हमसे,
पाना भी नहीं चाहते और खोने से भी डरते हैं..

Khaffa bhi rahte hain or Waffa bhi krte hain,
Is tarah wo apne Pyar ko Byaan bhi karte hain..
Jaane kaisi Narazgi hai unko humse,
Pana bhi nahi chahte or Khone se bhi darte hain..

जी चाहता है..

जी चाहता है तेरी धड़कनो में उलझ जाऊ,
कैसे भी हो बस तेरे दिल तक चला जाऊ..||

Jee chahta hai teri dhadkno mein ulajh jau,
Kaise bhi ho bas tere Dil tak chla jau..

दिल से…

दिल से परवाह करने वाले, जुबां से ज़ाहिर नहीं करते..
Dil se Parwaah karne wale, Zubaan se Zahir nhi karte..

ज़रूरते भी..

ज़रूरते भी ज़रूरी हैं, जीने के लिए ..
लेकिन तुझसे ज़रूरी तो, ज़िन्दगी भी नहीं ..

Zrurte bhi Zruri hain, Jeene ke liye..
Lekin tujhse zruri to, Zindagi bhi nahi..

जिस-जिस ने मोहब्बत में..

जिस-जिस ने मोहब्बत में, अपने महबूब को खुदा कर दिया..
खुदा ने अपने वजूद को बचाने के लिए, उनको जुदा कर दिया..

Jis-Jis ne Mohabbat mein, apne Mahboob ko Khuda kar diya..
Khuda ne apne Wajood ko bchane ke liye, unko Juda kar diya..

सीख जाओ वक़्त पर..

सीख जाओ वक़्त पर, किसी की चाहत की कदर करना..
कंही कोई थक न जाये, तुम्हे एहसास दिलाते दिलाते..

Seekh jao Waqt par, kisi ki Chahat ki Kadar krna..
Kanhi koi Thak na jaye, Tumhe Ehsas dilate dilate..

खुला आसमान..

खुला आसमान दे देना इश्क़ है,
कैद कर लेने की ज़िद इश्क़ नहीं..

Khula Asmaan de dena ISHQ hai,
Kaid kar lene ki Zid ISHQ nahi..

सुनो.. !!!

सुनो.. !!! उम्र ना पूछना हमसे कभी,
हम इश्क़ हैं, हमेशा जवान रहते हैं…

Suno.. !!! umar na puchhna hmse kabhi,
Hum ISHQ hain, hmesha Jwaan rhte hain…

तुझे चाहते हैं बेइंतहा..

तुझे चाहते हैं बेइंतहा, पर चाहना नहीं आता..
यह कैसी मोहब्बत है, के हमें कहना नहीं आता..
ज़िन्दगी में आ जाओ हमारी ज़िन्दगी बनकर,
के तेरे बिना हमें ज़िंदा रहना नहीं आता..

Tujhe chahte hain Beintaha, Par Chahna nahi ataa..
Yeh kaisi Mohabbat hai, ke hmein kehna nahi ataa..
Zindagi mein aa jao hmari Zindagi bankar,
Ke tere bina hmein Zinda rehna nahi ataa..