Mujhe Qubool Hai Har Dard

sad shayari image download

मुझे क़बूल है हर दर्द, हर तकलीफ़ तेरी चाहत में..
सिर्फ़ इतना बता दे, क्या तुझे मेरी मोहब्बत क़बूल है?
Mujhe qubool hai har dard har takleef teri chahat mein,
Sirf itna bata de, kya tujhe meri Mohabbat qubool hai?

Deedar Ki Talab Ho To

sad shayari image download

दीदार की तलब हो तो नज़रे जमाये रखना ग़ालिब,
क्युकी नकाब हो या नसीब… सरकता जरुर है ||
Deedar ki talab ho to Nazre jamaye rakhna Galib,
Kyunki Naqab ho ya Naseeb sarakta zaroor hai..

Ishq Hona Bhi Laazmi Hai

love shayari image download

इश्क़ होना भी लाज़मी है शायरी लिखने के लिए वरना…
कलम ही लिखती तो…हर स्कुल का टीचर ग़ालिब होता ||
Ishq hona bhi laazmi hai shayari likhne ke liye warna,
Qalam hi likhti to, har school ka teacher Galib hota.

Kahne Ho To Sab Apne Hai

कहने को तो सब अपने है मगर, काश कोई ऐसा हो जो कहे…
के तेरे दर्द से मुझे तकलीफ होती है … ||
Kahne ko to sab apne hai magar, kaash koi aisa ho jo kahe..
ke tere Dard se mujhe takleef hoti hai.

Maine Sab Kuch Nazar-Andaaz Kiya

मैं ने सब कुछ नज़रअंदाज़ किया हैं…
वरना तुम तो मुझे कब का खो देते…!!

Maine sab kuch nazar-andaaz kiya hai,
Warna tum to mujhe kab ka kho dete.

Jab Tak Na Lage Bewafai Ki Thokar

love shayari image download

जब तक ना लगे बेवफाई की ठोकर ए दोस्त ,
हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है .. ||
Jab tak na lage Bewafai ki thokar ae dost,
Har kisi ko apni pasand par naaz hota hai.

Khamoshiyan bewajah..

sad shayari image downloadखामोशियाँ बेवजह नहीँ होतीं..
कुछ दर्द भी आवाज़ छीन लेते हैँ.. ||
Khamoshiyan bewajah nahi hoti..
Kuchh Dard bhi awaaz cheen lete hain..

Maine kab kaha…

love shayari image download

मैंने कब कहा वह मिल जाये मुझे…
गैर ना होजाये बस इतनी सी हसरत है.. ||
Maine kab kaha woh mil jaye mujhe..
Gair na ho jaye bas itni si Hasrat hai.

Fir Mahobbat karni hai…

mohabbat shayari image download

फिर मोहब्बत करनी है मुझसे तो शुरुआत वहीं से कर…
जिस जगह से तूने मुझे बड़ी नफरत से देखा था…. ||
Fir Mahobbat karni hai mujhse to Shuruat wanhi se kar,
Jis jagah se tune mujhe badi Nafrat se dekha tha..

Mujhe Wo Suraj Kehta Hai To Kabhi Chaand

मुझे वो सूरज कहता है तो कभी चाँद कहता है,
कभी धरती का नाम देता है तो कभी आसमान कहता है ||
कभी कहता है की में उसकी जिंदगी हु, कभी वो जान कहता है,
कभी कहता है में उसका खवाब हु तो कभी अरमान कहता है ||
वो मुझको जोड़ लेता है अपने अक्स के साथ पागल,
बेखुदी में मुझे अपनी पहचान कहता है ||

—-
Mujhe wo suraj kehta hai to kabhi chaand kehta hai,
Kabhi dharti ka naam deta hai to kabhi aasman kehta hai.
Kabhi kehta hai ki main uski Zindagi hu, kabhi wo jaan kehta hai,
Kabhi kehta hai main uska Khwab hu to kabhi Armaan kehta hai.
Wo mujhko jod leta hai apne akas ke sath pagal,
Bekhudi mein mujhe apni Pehchaan kehta hai.