Koi gunah thodi hai ishq jo chipaungi

कोई गुनाह थोड़ी है इश्क़ जो छिपाऊंगी
मैंने चाहा है तुझे ये बात तेरी बीवी को भी बताउंगी

Koi gunah thodi hai ishq jo chipaungi
Maine chaha hai tujhe, ye baat teri biwi ko bhi bataungi

Apna Acha Waqt

अपना अच्छा वक़्त उनको ही दो,
जो बुरे वक़्त में आपके साथ थे

Apna acha waqt unko he do
Jo buray waqt mein aapke saath thay

Zid Junoon Aur Jazbaato se Bhara

ज़िद जूनून और जज़्बातो से भरा हूँ
मैं बहुत अच्छा और अच्छा ख़ासा बुरा हूँ

Zid junoon aur jazbaaton se bhara hun
Main bahut achaa aur achaa khaasa bura hun

ज़माना ख़राब है

अपने गुनाहों पर सौ परदे डाल कर,
हर शख्स कहता है ज़माना ख़राब है ||

Apne Gunaho par sau parde daal kar,
Har shakhs kehta hai zamana kharab hai.

हादसे इंसान के संग..

हादसे इंसान के संग मसखरी करने लगे..
लफ़ज़ कागज़ पर उतर जादूगरी करने लगे..
कामयाबी जिसने पाई उनके घर तो बास गए..
जिनके दिल टूटे वो आशिक़ शायरी करने लगे…

Haadse Insan ke sang Maskhari karne lage..
Lafaz Kagaz par utar Jadugari karne lage..
Kamyabi jisne pai unke ghar to bass gae..
Jinke Dil toote wo Aashiq Shayari karne lage…

हम किसी शख्स से..

हम किसी शख्स से तब तक लड़ते हैं,
जब तक उससे प्यार की उम्मीद होती है..
जिस दिन वो उम्मीद ख़तम हो जाती है,
उस दिन लड़ना भी खत्म हो जाता है..||

Hum kisi Shakhs se tab tak ladte hain,
Jab tak usse pyar ki ummeed hoti hai..
Jis din wo ummeed khatam ho jati hai,
Us din Ladna bhi khatam ho jata hai..

हारा हुआ सा…

हारा हुआ सा लगता है वजूद मेरा,
हर एक ने लूटा है दिल का वास्ता देकर..

Hara hua sa lagta hai Wajood mera,
Har ek ne loota hai Dil ka wastaa dekar..

मदहोश रहते हैं..

मदहोश रहते हैं, तभी ज़िंदा हैं..
वरना होश में कँहा ज़िन्दगी, रास आती है…???

Madhosh rahte hain, Tabhi Zindaa hain..
Warna Hosh mein kanha Zindagi, Raas aati hai…???

ज़िन्दगी बेरंग बेनूर सी..

ज़िन्दगी बेरंग बेनूर सी क्यों है, ज़िन्दगी की हर ख़ुशी हमसे दूर क्यों है..?
वक़्त बीत जाएगा यूँ ही इंतज़ार में लगता है, आखिर खुदा खुद में इतना मगरूर क्यों है.. ??

Zindagi Berang Benoor si kyon hai, Zindagi ki har Khushi humse Door kyon hai..?
Waqt beet jaega yu hi Intzaar mein lagta hai, Akhir Khuda khud mein itna Magroor kyon hai.. ??

खफा भी रहते हैं..

खफा भी रहते हैं और वफ़ा भी करते हैं,
इस तरह वो अपने प्यार को ब्यान भी करते हैं..
जाने कैसी नाराज़गी है उनको हमसे,
पाना भी नहीं चाहते और खोने से भी डरते हैं..

Khaffa bhi rahte hain or Waffa bhi krte hain,
Is tarah wo apne Pyar ko Byaan bhi karte hain..
Jaane kaisi Narazgi hai unko humse,
Pana bhi nahi chahte or Khone se bhi darte hain..