मुझको छाँव में रखा..

मुझको छाँव में रखा, खुद जलता रहा धूप में..
मैंने देखा है एक फरिश्ता बाप के रूप में..

mujhko Chhanv mein rkha, khud jalta rha Dhoop mein..
Maine dekha hai Ek Farishta Baap ke Roop mein..

मैं रात भर..

मैं रात भर जन्नत की सैर करता रहा यारों,
सुबह आँख खुली तो सर ‘माँ’ के कदमो में था..

Main raat bhar Jannat ki Sair krta rha yaro,
Subah Aankh khuli to Sar ‘Maa’ ke Kadmo mein tha..

हर पल में ख़ुशी देती है माँ..

हर पल में ख़ुशी देती है माँ,
अपनी ज़िन्दगी से जीवन देती है माँ..
भगवन क्या है माँ की पूजा करो जनाब!!!
क्योंकि भगवान को भी जनम देती है माँ..

Har Pal mein khushi deti hai Maa,
Apni Zindagi se Jeevan deti hai Maa..
Bhagwan kya hai Maa ki Pooja karo Jnab!!!
Kyaunki Bhagwan ko bhi janam deti hai Maa..

फना करदो अपनी सारी ज़िन्दगी..

फना करदो अपनी सारी ज़िन्दगी, अपनी ‘माँ’ के कदमो में यारो..
दुनिया में यही एक मोहब्बत है, जिसमे बेवफाई नहीं मिलती..

Fnaa kardo apni sari Zindagi apn,i Maa ke kadmo mein yaro..
Duniya mein yahi ek Mohabbat, hai jisme Bewfai nahi milti..

देखता हु खुद को..

देखता हूँ खुद को हमेशा माँ की आँखों में,
यह वो आईना है जिसमे मैं कभी बूढ़ा नहीं होता ||

Dekhta hu khud ko hmesha Maa ki ankho mein,
yeh wo ayina hai jisme main kabhi budha nahi hota.

भरे घर में तेरी आहट मिलती नहीं अम्मा

भरे घर में तेरी आहट मिलती नहीं अम्मा
तेरी बाहों की नरमाहट कहीं मिलती नहीं अम्मा
मैं तन पर लादे फिरता हूँ दुशाले रेशमी लेकिन
तेरी गोदी की गरमाहट कहीं मिलती नहीं अम्मा

Bhare ghar mein teri aahat milti nae amma
Teri bahon ki narmahat kahi milti nae amma
Main tan par laade firta hun dushaale reshmi lekin
Teri godi ki garmaahat kahi milti nahi amma

Pyar, Parwah, Shohrat Aur Samay

maa shayari image download

प्यार, परवाह, शरारत और थोड़ा समय..
यही वो दौलत है, जो अक्सर हमारे अपने हमसे चाहते हैं.. ||
Pyar, Parwah, Shohrat aur thoda Samay,
Yahi wo daulat hai, jo aqsar hamare apne hum se chahte hai.

Kisi Ko Jodne Mein

maa shayari image download

किसी को जोड़ने में इतने मगन थे हम…
होश तब आया जब अपने वजूद के टुकड़े देखे ||
Kisi ko jodne mein itne magan thay hum…
Hosh tab aaya jab apne wajood ke tukde dekhe.

Kahne Ho To Sab Apne Hai

कहने को तो सब अपने है मगर, काश कोई ऐसा हो जो कहे…
के तेरे दर्द से मुझे तकलीफ होती है … ||
Kahne ko to sab apne hai magar, kaash koi aisa ho jo kahe..
ke tere Dard se mujhe takleef hoti hai.

Apne Gunaho Par Sau Parde Daal Kar

अपने गुनाहों पर सौ परदे डाल कर,
हर शख्स कहता है ज़माना ख़राब है ||
Apne Gunaho par sau parde daal kar,
Har shakhs kehta hai zamana kharab hai.