जिस-जिस ने मोहब्बत में..

जिस-जिस ने मोहब्बत में, अपने महबूब को खुदा कर दिया..
खुदा ने अपने वजूद को बचाने के लिए, उनको जुदा कर दिया..

Jis-Jis ne Mohabbat mein, apne Mahboob ko Khuda kar diya..
Khuda ne apne Wajood ko bchane ke liye, unko Juda kar diya..

सीख जाओ वक़्त पर..

सीख जाओ वक़्त पर, किसी की चाहत की कदर करना..
कंही कोई थक न जाये, तुम्हे एहसास दिलाते दिलाते..

Seekh jao Waqt par, kisi ki Chahat ki Kadar krna..
Kanhi koi Thak na jaye, Tumhe Ehsas dilate dilate..

जब तालाब भरता है..

जब तालाब भरता है तो मछलिया चींटियों को खाती हैं,
और जब तालाब खाली होता है तो चींटियां मछलियों को,
मौका सबको मिलता है बस अपनी बारी का इंतज़ार कीजिये.. ||

Jab talaab bharta hai to Machhliya Cheentiyo ko khati hain,
Aur jab talaab khali hota hai to Cheentiya Machhliyo ko,
Mauka sabko milta hai Bas apni Bari ka Intzaar keejiye..

अपने हालात का..

अपने हालात का खुद पता नहीं मुझको,
मैंने औरो से सुना है के मैं परेशान हूँ आजकल..

Apne halaat ka Khud Pta nahi mujhko,
Maine auro se Suna hai, ke main Pareshan hu ajkal..

मुझको छाँव में रखा..

मुझको छाँव में रखा, खुद जलता रहा धूप में..
मैंने देखा है एक फरिश्ता बाप के रूप में..

mujhko Chhanv mein rkha, khud jalta rha Dhoop mein..
Maine dekha hai Ek Farishta Baap ke Roop mein..

घुटन क्या है..

घुटन क्या है यह पूछिए उस बच्चे से,
जो काम करता है रोटी के लिए खिलौनों की दुकान पर..

Ghutan kya hai yeh poochhiye us bache se,
Jo kaam krta hai Roti ke liye khilono ki Dukan par..

आज भी, आंसू से..

आज भी, आंसू से देती हूँ ब्याज तेरा..
तेरी मोहब्बत का कर्ज, बहुत भारी पड़ा..।।

Aaj bhi, Aansu se deti hu Byaaz tera..
Teri Mohabbat ka Karz, bahut Bhari pdaa..

निगाहों से भी..

निगाहों से भी चोट लगती है,
जब हमें कोई देखकर भी अनदेखा कर देते हैं..

Nigahon se bhi Chot lagti hai,
jab hmein koi Dekh kar bhi Andekha kar dete hain..

मैं रात भर..

मैं रात भर जन्नत की सैर करता रहा यारों,
सुबह आँख खुली तो सर ‘माँ’ के कदमो में था..

Main raat bhar Jannat ki Sair krta rha yaro,
Subah Aankh khuli to Sar ‘Maa’ ke Kadmo mein tha..

खाली पड़ा है..

खाली पड़ा है मेरे पड़ोस का मैदान,
एक मोबाइल बच्चों की गेंद चुरा ले गया..

Khali pda hai mere Pados ka maidan,
Ek Mobile bachchon ki Gaind chura le gya..