toot jata hai…

 

maa shayari image download

टूट जाता है गरीबी में वह रिश्ता जो ख़ास होता है..
हजारों यार बनते  है जब पैसा पास होता है ||
toot jata hai gareebi mein woh rishta jo khas hota hai.
Hazaro yar bante hain jab paisa paas hota hai..

Labo pe uske kabhi…

लबो पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती ||
Labo pe uske kabhi Baddua nahi hoti,
Bass ek maa jo mujhse Khaffa nahi hoti.

Yeh esa karz hai jo…

यह ऐसा क़र्ज़ है जो मैं लौटा ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर नहीं लोटू मेरी माँ सजदे में रहती ||
Yeh esa karz hai jo main hi nahi sakta,
Main jab tak ghar nahi lotu meri Maa sajde mein rehti.

Bulandi der tak kis shakhs…

बुलंदी देर तक किस शख्स के हिस्से में रहती है,
बहुत ऊँची इमारत हर घढ़ी खतरे में रहती है ||
Bulandi der tak kis shakhs ke hisse mein rahti hai,
Bahut unchi imarat  har  garhi khatre mein rahti hai.

Abhi zindaa hai maa meri…

अभी ज़िंदा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,
मैं घर से जब निकलता हु दुया भी साथ चलती है||
Abhi zindaa hai maa meri mujhe kuchh bhi nahi hoga,
Main ghar se jab niklta hu Dua bhi saath chalti hai.

Bulandiyo ka bade se bada…

बुलंदियों का बड़े से बड़ा निशाँ छुआ
उठाया गोद में माँ ने तो आसमान छुआ ||
Bulandiyo ka bade se bada nishaan chhua
Uthaya  Godh  mein  maa  ne  to  asmaan  chhua.

Kisi ke hisse mein Zameen aayi…

किसी के हिस्से में ज़मीन आयी किसी के हिस्से में दूकान आयी
मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में माँ आयी ||
Kisi ke hisse mein Zameen aayi kisi ke hisse mein dukan ayi
Mein ghar mein sabse chhota tha mere hisse mein maa  ayi.

Jab bhi kashti meri sailab…

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है ..
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है ..
Jab bhi kashti meri sailab mein aa jati hai..
Maa dua karti hui khwab mein aa jati hai..

Rishto ki geeli zmeen

रिश्तो  की  गीली  ज़मीन  पर
लोग  अक्सर  फिसल  ही  जाते  हैं.. ||
Rishto ki geeli zmeen par
log aqsar fisal hi jate hain.