देखता हु खुद को..

देखता हूँ खुद को हमेशा माँ की आँखों में,
यह वो आईना है जिसमे मैं कभी बूढ़ा नहीं होता ||

Dekhta hu khud ko hmesha Maa ki ankho mein,
yeh wo ayina hai jisme main kabhi budha nahi hota.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *