भरे घर में तेरी आहट मिलती नहीं अम्मा

भरे घर में तेरी आहट मिलती नहीं अम्मा
तेरी बाहों की नरमाहट कहीं मिलती नहीं अम्मा
मैं तन पर लादे फिरता हूँ दुशाले रेशमी लेकिन
तेरी गोदी की गरमाहट कहीं मिलती नहीं अम्मा

Bhare ghar mein teri aahat milti nae amma
Teri bahon ki narmahat kahi milti nae amma
Main tan par laade firta hun dushaale reshmi lekin
Teri godi ki garmaahat kahi milti nahi amma

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *