5 Heart Touching Breakup Shayari Collection

क़िस्मत के हाथो वो ही मजबूर होते हैं
जो हक़ीक़त से बहुत दूर होते हैं
अक्सर मिलती है सज़्ज़ा उनको
जो हर तरफ से बेकसूर होते हैं

 

हम मिट्टी के आशियाने बनाते गए
बना बना कर फिर उन्हे गिराते गए
कोई हमें अपना न बना स्का
और हम हर किसी को अपना बनाते गए

 

मुक़द्दर से लड़ स्कू यह मेरी औकात नहीं
मैं वो शख्स हु खुदा जिसके साथ नहीं
वक़्त आएगा तो कह देंगे खुदा से
मेरा मुक़द्दर लिखना तेरे बस की बात नहीं

 

चाहते हैं जिन्हे अब उनके दिल बदल गए
समंदर गहरे है तो साहिल बदल गए
क़तल ऐसा हुआ टुकड़ो में मेरा
कभी बदले खंजर तो कभी क़ातिल बदल गए

 

मुझसे मेरे गुनाहो का हिसाब ना मांग मेरे खुदा
मेरी तकदीर लिखने में कलम तेरी ही चली है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *