जब तालाब भरता है..

जब तालाब भरता है तो मछलिया चींटियों को खाती हैं,
और जब तालाब खाली होता है तो चींटियां मछलियों को,
मौका सबको मिलता है बस अपनी बारी का इंतज़ार कीजिये.. ||

Jab talaab bharta hai to Machhliya Cheentiyo ko khati hain,
Aur jab talaab khali hota hai to Cheentiya Machhliyo ko,
Mauka sabko milta hai Bas apni Bari ka Intzaar keejiye..

घुटन क्या है..

घुटन क्या है यह पूछिए उस बच्चे से,
जो काम करता है रोटी के लिए खिलौनों की दुकान पर..

Ghutan kya hai yeh poochhiye us bache se,
Jo kaam krta hai Roti ke liye khilono ki Dukan par..

कचरे में फेंकी रोटियां

कचरे में फेंकी रोटियां रोज़ ये बयां करती हैं,
की पेट भरते ही इंसान अपनी औकात भूल जाता है..

kachre mein fainki rotiya roz yeh byan karti hain,
ki pait bharte hi Insaan apni Aukaat bhool jata hai..

रास्तों को कदम चाहिए..

रास्तों को कदम चाहिए, कदमों को होंसला चाहिए..
होंसले को ज़िन्दगी चाहिए और ज़िन्दगी को तेरा फैसला..

Rasto ko Kadam chahiye, Kadmo ko Honsla chahiye..
Honsle ko Zindagi chahiye aur Zindagi ko tera Faisla..

खाली पन्नो की तरह..

खाली पन्नो की तरह दिन पलटते जा रहे हैं..
खबर नहीं के यह “आ रहे” हैं या “जा रहे” हैं…

Khali Panno ki tarah din Palat te jaa rhe hain..
Khabar nahi ke yeh “aa rahe” hain ya “jaa rahe” hain…

कब कौन काम आ जाये..

कब कौन काम आ जाये…..??
आधे रिश्ते तो लोग यही सोच कर निभा रहे हैं..!!

Kab Kaun Kaam aa jaye…..??
aadhe Rishte to log yahi soch kar nibha rhe hain..

पूछा हाल शहर का..

पूछा हाल शहर का तो सर झुका के बोले,
लोग तो ज़िंदा हैं ज़मीरों का पता नहीं..

Poochha hal Shehar ka to Sar jhuka ke bole,
Log to Zinda hain Zameero ka pta nahi..

एक दिया उनकी दहलीज़..

एक दिया उनकी दहलीज़ पे भी जला के आना,
सरहद पे रौशन हैं जिनके घर के चराग़ !

Ek Diya Unki Dahleez Pe Bhi Jala Ke Aana,
Sarhad Pe Raushan Hain Jinke Ghar Ke Charaag.

मरहम लगा सको तो..

मरहम लगा सको तो किसी गरीब के जख्मों पर लगा देना,
हकीम बहुत हैं बाजार में अमीरों के इलाज खातिर..

Marham lga sako to kisi Gareeb ke Zakhmo par lga dena,
Hakeem bahut hain bazaar mein Ameero ke ilaaj khatir..

कुछ बेतुके झगड़े..

कुछ बेतुके झगडे, कुछ इस तरह ख़तम कर दिए मैंने
जहा गलती नहीं भी थी मेरी, फिर भी हाथ जोड़ दिए मैंने…

Kuchh Betuke jhagde, kuchh is tarah khatam kar diye maine

jaha Galti nahi bhi thi meri, fir bhi Hath jod diye maine…