Farak Bahut Hai Teri Meri Taleem Mein

फर्क   बहुत   है   तेरी   और   मेरी   तालीम   में…
तूने  उस्तादों  से  सीखा  और  मैंने  हालातों  से ||
Farak bahut hai teri or meri taleem mein…
Tune ustado se seekha hai or maine halato se.

Yeh esa karz hai jo…

यह ऐसा क़र्ज़ है जो मैं लौटा ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर नहीं लोटू मेरी माँ सजदे में रहती ||
Yeh esa karz hai jo main hi nahi sakta,
Main jab tak ghar nahi lotu meri Maa sajde mein rehti.

Kisi roz hogi roshan…

किसी रोज़ होगी रोशन, मेरी भी ज़िंदगी,
इंतज़ार सुबह का नही, किसी के लौट आने का है||
Kisi roz hogi roshan, Meri bhi Zindagi,
Intzaar subah ka nahi, Kisi ke laut aane ka hai.

Badi ajeeb si hai shehro ki roshni…

बड़ी  अजीब  सी  है  शहरों  की  रोशनी
उजालो के  बावजूद  भी  चेहरे  पहचानने  मुश्किल हैं ||
Badi ajeeb si hai shehro ki roshni
Ujalo ke bawjud bhi chehre pahchanne mushqil hain.

Lafzo ke bojh se thak jati hai zuban…

लफ़्ज़ों  के  बोझ   से  थक  जाती  है  जुबान  कभी-कभी
पता  नहीं ख़ामोशी  मज़बूरी  है  या   समझदारी ||
Lafzo ke bojh se thak jati hai zuban kabhi-kabhi
Pta nahi khamoshi majburi hai yeh samajhdari.

Rishto ki geeli zmeen

रिश्तो  की  गीली  ज़मीन  पर
लोग  अक्सर  फिसल  ही  जाते  हैं.. ||
Rishto ki geeli zmeen par
log aqsar fisal hi jate hain.

Khyalo ne to zinda rkha…

ख्यालो ने तो ज़िंदा रखा है
वरना सवालों ने तो कबका मार दिया होता ||
Khyalo ne to zinda rkha hai
Warna swalo ne to kbka mar dia hota.

Kisko kya mila

किसको  क्या  मिला  इसका  कोई  हिसाब  नहीं,
तेरे पास  रूह  नहीं  मेरे  पास  लिबास  नहीं ||
Kisko kya mila iska koi hisaab nahi,
Tere pass rooh nahi mere pass libaas nahi.

Jhankne ki kuch behtreen…

झाँकने   की  कुछ  बेहतरीन  जगहों  में  से,
एक  जगह अपना  गिरेबान  भी  है ||
Jhankne ki kuch behtreen jagaho mein se,
ek jagah apna Gireban bhi hai.