Nafrat Karte To Ahmiyat Badh Jati Unki

नफ़रत करते तो अहमियत बढ़ जाती उनकी,
मैंने माफ़ कर के उनको शर्मिंदा कर दिया ||
Nafrat karte to Ahmiyat badh jati unki,
Maine maaf kar ke unko Sharminda kar dia.

Faasle Aise Bhi Honge Kabhi Socha Na Tha

फांसले ऐसे भी होंगे , यह कभी सोचा ना था…
सामने बैठा था मेरे वो, पर मेरा ना था ||
Faasle aise bhi honge kabhi socha na tha…
Samne baitha tha mere woh, par mera na tha.

Apne Bikne Ka Bahut Dukh Hai

अपने बिकने का बहुत दुःख है हमें भी लेकिन…
मुस्कुराते हुए मिलते हैं अपने ख़रीददार से हम ||
Apne bikne ka bahut dukh hai hamein bhi lekin…
Muskurate hue milte hain apne khariddar se hum.

Bahut Dino Baad Teri Mehfil Mein Kadam Rakha Hai

बहुत दिनों बाद तेरी महफ़िल में कदम रखा है…
मगर नज़रों से सलामी देने का तेरा अंदाज़ नहीं बदला ||
Bahut dino baad teri mehfil mein kadam rakha hai…
Magar nazro se salami dene ka tera andaaz nahi badla.

Kuchh Zakham

कुछ  ज़ख़्म  सदियों  के बाद  भी  ताज़ा  रहते  हैं…
वक़्त  के  पास  भी हर  मर्ज़   की  दवा  नहीं  होती ||
Kuchh zakham sadiyo baad bhi tazaa rahte hain…
Waqt ke paas bhi har marz ki dwa nahi hoti.

Abhi Dard Nhi Hua

अभी! दर्द नहीं हुआ है उनको…
अभी वो! इश्क नहीं समझेंगे ||
Abhi dard nhi hua hai unko…
Abhi wo ishq nahi smjhenge.

Labo pe uske kabhi…

लबो पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती ||
Labo pe uske kabhi Baddua nahi hoti,
Bass ek maa jo mujhse Khaffa nahi hoti.

Yeh esa karz hai jo…

यह ऐसा क़र्ज़ है जो मैं लौटा ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर नहीं लोटू मेरी माँ सजदे में रहती ||
Yeh esa karz hai jo main hi nahi sakta,
Main jab tak ghar nahi lotu meri Maa sajde mein rehti.

Kisi roz hogi roshan…

किसी रोज़ होगी रोशन, मेरी भी ज़िंदगी,
इंतज़ार सुबह का नही, किसी के लौट आने का है||
Kisi roz hogi roshan, Meri bhi Zindagi,
Intzaar subah ka nahi, Kisi ke laut aane ka hai.

Badi ajeeb si hai shehro ki roshni…

बड़ी  अजीब  सी  है  शहरों  की  रोशनी
उजालो के  बावजूद  भी  चेहरे  पहचानने  मुश्किल हैं ||
Badi ajeeb si hai shehro ki roshni
Ujalo ke bawjud bhi chehre pahchanne mushqil hain.