Zra Sa Bhi Nahi Pighlta Dil Tera

जरा सा भी नही पिघलता दिल तेरा,
इतना क़ीमती पत्थर कहाँ से ख़रीदा है ||

—-
Zra sa bhi nahi pighlta dil tera,
itna keemti pathar khaha se kharida hai.

Wahi Shakhs Mere Lashkar Se Bgaawat Kar Gya

वही शख़्स मेरे लश्कर से बग़ावत कर गया,
जीत कर सल्तनत जिसके नाम करनी थी ||

—-
Wahi shakhs mere lashkar se bgaawat kar gya,
jeet kar saltanat jiske naam karni thi.

Bin Tere Tu Hi Bta

बिन तेरे तू ही बता कैसे घसीटू इसको,
ज़िंदगी लगती है टूटी हुई चप्पल की तरह ||

—-
Bin tere tu hi bta kaise ghseetu isko,
Zindagi lgti hai tutti hui chappal ki tarah.

Parwah Karni Hai To Uski Kar Jo Teri Karey

परवाह करनी है तो उसकी कर जो तेरी करे,
ज़िन्दगी में तुझे जो कभी तनहा ना करे ||
जान बनके उतर जा तू उसकी रूह में,
जो जान से भी ज्यादा तुझसे वफ़ा करे ||

—-
Parwah karni hai to uski kar jo teri karey,
Zindagi me tujhe jo kabhi tanha na karey,
Jaan banke utar ja tu uski ruh me,
Jo jaan sey b jyada tujh sey wafaa karey.

Zindagi Mein Ek Aise Insaan Ka Hona Bahut Jaruri Hai

ज़िन्दगी में एक ऐसे इंसान का होना बहुत ज़रूरी है ||
जिसको दिल का हाल बताने के लिए, लफ़्ज़ों की जरुरत न पड़े ||

—-
Zindagi mein ek aise Insaan ka hona bahut jaruri hai,
Jisko dil ka haal batane ke liye, Lafzon ki jarurat na pade.

Bin Mange Hi Mil Jati Hai Mohabbat Kisi Ko

बिन मांगे ही मिल जाती हैं मोहब्बत किसी को,
कोई खाली हाथ रह जाता है हजारों दुआओं के बाद भी ||

—-
Bin mange hi mil jati hai Mohabbat kisi ko,
Koi Khali hath reh jata hai hzaro duayo ke bad bhi.

Dunia Fareb Karke Hunarmand Ho Gayi

दुनिया फ़रेब करके हुनरमंद हो गयी,
हम एतबार करके गुनाहगार हो गए… ||
Dunia fareb karke Hunarmand ho gayi,
Hum Aitbaar karke Gunehgar ho gae..

Mujhe Mehange Tohfe Pasand Hai

मुझे महंगे तोहफ़े पसंद है,
अगली बार आओ तो वक़्त ले आना…!!
Mujhe mehange Tohfe pasand hai,
Agli baar aayo to waqt le aana.

Yeh Kaun Mere Haal Par Roya

ये कौन मेरे हाल पे रोया था फूट कर,
आइने के उस तरफ़ वो शक़्स कौन था ||
Yeh kaun mere haal par roya tha foot kar,
Aaine ke us paar wo Shakhs kaun tha.

Bicharte Waqt Mere Aib Ginaaye

बिछड़ते वक्त मेरे ऐब गिनाये कुछ लोगों ने…
सोचती हु जब मिली थी तब कौन सा हुनर था मुझ में ||
Bicharte waqt mere aib ginaaye kuch logo ne…
Sochti hu jab mili thi tab kaun sa Hunar tha mujh mein.