Mujhe Sirf Zrurato Mein Yaad Mat Kiya Karo

मुझे सिर्फ ज़रूरतों में याद मत किया करो,
ग़लतफहमी हो जाती है, कहीं मैं खुदा तो नहीं ||

—-
Mujhe sirf zrurato mein yaad mat kiya karo,
galatfehami ho jati hai, kanhi main khuda to nahi.

Waqt Hi Katna Tha To Kah Dete Hmein

वक़्त ही काटना था तो कह देते हमें,
हम तुमसे इतनी दिल्लगी तो ना करते ||

—-
Waqt hi katna tha to kah dete hmein,
hum tumse itni dillagi to na karte.

Zra Sa Bhi Nahi Pighlta Dil Tera

जरा सा भी नही पिघलता दिल तेरा,
इतना क़ीमती पत्थर कहाँ से ख़रीदा है ||

—-
Zra sa bhi nahi pighlta dil tera,
itna keemti pathar khaha se kharida hai.

Wahi Shakhs Mere Lashkar Se Bgaawat Kar Gya

वही शख़्स मेरे लश्कर से बग़ावत कर गया,
जीत कर सल्तनत जिसके नाम करनी थी ||

—-
Wahi shakhs mere lashkar se bgaawat kar gya,
jeet kar saltanat jiske naam karni thi.

Bin Tere Tu Hi Bta

बिन तेरे तू ही बता कैसे घसीटू इसको,
ज़िंदगी लगती है टूटी हुई चप्पल की तरह ||

—-
Bin tere tu hi bta kaise ghseetu isko,
Zindagi lgti hai tutti hui chappal ki tarah.

Wo Ek Khat Jo Tumne Kabhi Likha Hi Nahi

वो एक खत जो तुमने कभी लिखा ही नहीं,
मैं रोज़ बैठ के उसका जवाब लिखती हूँ ||

—-
Wo ek khat jo tumne kabhi likha hi nahi,
Main roz baith kar uska jwab likhti hu.

Bin Mange Hi Mil Jati Hai Mohabbat Kisi Ko

बिन मांगे ही मिल जाती हैं मोहब्बत किसी को,
कोई खाली हाथ रह जाता है हजारों दुआओं के बाद भी ||

—-
Bin mange hi mil jati hai Mohabbat kisi ko,
Koi Khali hath reh jata hai hzaro duayo ke bad bhi.

Ungliyan Aaj Bhi Is Soch Mein Gum Hain

उंगलिया आज भी इस सोच में गुम है,
उसने कैसे नए हाथ को थामा होगा.. ||
Ungliyan aaj bhi is soch mein gum hain,
Usne kaise naye haath ko thama hoga.

Faasle Aise Bhi Honge Kabhi Socha Na Tha

फांसले ऐसे भी होंगे , यह कभी सोचा ना था…
सामने बैठा था मेरे वो, पर मेरा ना था ||
Faasle aise bhi honge kabhi socha na tha…
Samne baitha tha mere woh, par mera na tha.

Apne Bikne Ka Bahut Dukh Hai

अपने बिकने का बहुत दुःख है हमें भी लेकिन…
मुस्कुराते हुए मिलते हैं अपने ख़रीददार से हम ||
Apne bikne ka bahut dukh hai hamein bhi lekin…
Muskurate hue milte hain apne khariddar se hum.