Majburiyo Ke Naam Par Sab Chhodna Pda

मजबूरियों के नाम पर सब छोड़ना पड़ा
दिल तोडना कठिन था मगर तोडना पड़ा,
मेरी पसंद और थी सबकी पसंद वो
इतनी ज़रासी बात पे घर छोड़ना पड़ा ||

—-
Majburiyo ke naam par sab chhodna pda
Dil todna kathin tha magar todna pda,
Meri pasand or thi sabki pasand wo
Itni zraa si baat par ghar chhodna pda.

Kuchh Din Se Zindagi Mujhe Pahchanti Nhi

mahobbat shayari

कुछ दिन से ज़िन्दगी मुझे पहचानती नहीं
यूँ देखती है जैसे मुझे जानती नहीं,
अंजुम पे हस्ता है तो हस्ता रहे जहां
मैं बेवकूफियों का बुरा मानती नहीं ||

—-
Kuchh din se Zindagi mujhe pahchanti nhi
yu dekhti hai jaise mujhe janti nahi.
Anjum pe hasta hai to hasta rhae jahan
Main Bewkufiyo ka bura manti nahi.

Apni Ankhon Ko Char Mat Karna

अपनी आँखों को चार मत करना
तुम सितारे शुमार मत करना,
लड़कियों मुझको तजुर्बा है बहुत
मशवरा है के प्यार मत करना ||

—-
Apni ankhon ko char mat karna
Tum sitare shumar mat karna,
Ladkiyo mujhko tajurba hai bahut
Mashwara hai ke pyar mat karna.

Yeh Kisi Naam Ka Nahi Hota

यह किसी नाम का नहीं होता
यह किसी धाम का नहीं होता,
प्यार में जब तलक नहीं टूटे
‘दिल’ किसी काम का नहीं होता ||

—-
Yeh kisi naam ka nahi hota
Yeh kisi dhaam ka nahi hota,
Pyar mein jab talak nahi tute
‘DIL’ kisi kam ka nahi hota.

Dil Ki Qismat Badal Na Paega

दिल की क़िस्मत बदल न पायेगा
बंधनो से निकल न पायेगा,
तुझको दुनिया के साथ चलना है
तू मेरे साथ चल न पायेगा ||

—-
Dil ki qismat badal na paega
Bandhano se nikal na paega,
Tujhko duniya ke sath chalna hai
Tu mere sath chal na paega.

Jab Tak Na Lage Bewafai Ki Thokar Dost

जब तक न लगे बेवफाई की ठोकर दोस्त,
हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है ||

—-
Jab tak na lage bewafai ki thokar dost,
har kisi ko apni pasand par naaz hota hai.

Uss Ne Aisi Chaal Chali

उस ने ऐसी चाल चली के मेरी मात यक़ीनी थी,
फिर अपनी अपनी क़िस्मत थी, हारा मैं पछताया वो ||

—-
Uss ne aisi chaal chali ke meri maat yaqini thi,
fir apni-apni qismat thi, haara main pachtaya wo.

Zruri Nahi

जरूरी नहीं की कुछ तोड़ने के लिए पथर ही मारा जाये,
लहज़ा बदल कर बोलने से भी बहुत कुछ टूट जाता है ||

—-
Zruri nahi ki kuchh todne ke liye pathar hi mara jaye,
lehzaa badal kar bolne se bhi bahut kuchh toot jata hai.

Akele Rahne Ka Bhi Alag Mazaa Hai

अकेले रहने का भी अलग मज़ा है ||
न किसी के आने का इंतज़ार न किसी को खोने का डर ||

—-
Akele rahne ka bhi alag mazaa hai,
na kisi ke ane ka intzar na kisi ko khone ka dar.

Duniya Dhokha De Kar Aqalmand Ho Gai

दुनिया धोखा दे कर अक्लमंन्द हो गयी,
और हम भरोसा करके गुनेहगार हो गए ||

—-
Duniya dhokha de kar aqalmand ho gai,
aur hum bhrosa karke Gunehgar ho gae.