Bulandi der tak kis shakhs…

बुलंदी देर तक किस शख्स के हिस्से में रहती है,
बहुत ऊँची इमारत हर घढ़ी खतरे में रहती है ||
Bulandi der tak kis shakhs ke hisse mein rahti hai,
Bahut unchi imarat  har  garhi khatre mein rahti hai.

Bahut kamzor ho gae…

बहुत  कमज़ोर  हो  गए  हो  साहिब, जो  संभाल  नहीं  पाए  दर्द |
आखिर  कर  ही  लिया  मन  हल्का, गम कागज  पर  उतार  कर ||
Bahut kamzor ho gae ho saheb, jo smbhal nahi paye dard.
Akhir kar hi liya mann halka, Gum kagaz par utaar kar.

Jhankne ki kuch behtreen…

झाँकने   की  कुछ  बेहतरीन  जगहों  में  से,
एक  जगह अपना  गिरेबान  भी  है ||
Jhankne ki kuch behtreen jagaho mein se,
ek jagah apna Gireban bhi hai.

Pani dariya mein ho…

पानी दरिया में हो या आँखों में,
गहराई और राज़ दोनों में होते हैं ||
Pani dariya mein ho ya ankho mein,
Gehrayi aur Raaz dono mein hote hain.

lot aati hai har bar..

dard bhari shayari image download

लौट आती है हर बार मेरी इबादत खाली,
जाने किस  ऊंचाई  पर खुदा रहता है।|
lot aati hai har bar meri Ibadat khali,
na jane kis unchayi par khuda rehta hai.