Yeh esa karz hai jo…

यह ऐसा क़र्ज़ है जो मैं लौटा ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर नहीं लोटू मेरी माँ सजदे में रहती ||
Yeh esa karz hai jo main hi nahi sakta,
Main jab tak ghar nahi lotu meri Maa sajde mein rehti.

Bulandi der tak kis shakhs…

बुलंदी देर तक किस शख्स के हिस्से में रहती है,
बहुत ऊँची इमारत हर घढ़ी खतरे में रहती है ||
Bulandi der tak kis shakhs ke hisse mein rahti hai,
Bahut unchi imarat  har  garhi khatre mein rahti hai.

Abhi zindaa hai maa meri…

अभी ज़िंदा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,
मैं घर से जब निकलता हु दुया भी साथ चलती है||
Abhi zindaa hai maa meri mujhe kuchh bhi nahi hoga,
Main ghar se jab niklta hu Dua bhi saath chalti hai.

Bulandiyo ka bade se bada…

बुलंदियों का बड़े से बड़ा निशाँ छुआ
उठाया गोद में माँ ने तो आसमान छुआ ||
Bulandiyo ka bade se bada nishaan chhua
Uthaya  Godh  mein  maa  ne  to  asmaan  chhua.

Kisi ke hisse mein Zameen aayi…

किसी के हिस्से में ज़मीन आयी किसी के हिस्से में दूकान आयी
मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में माँ आयी ||
Kisi ke hisse mein Zameen aayi kisi ke hisse mein dukan ayi
Mein ghar mein sabse chhota tha mere hisse mein maa  ayi.

Jab bhi kashti meri sailab…

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है ..
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है ..
Jab bhi kashti meri sailab mein aa jati hai..
Maa dua karti hui khwab mein aa jati hai..

Kisi roz hogi roshan…

किसी रोज़ होगी रोशन, मेरी भी ज़िंदगी,
इंतज़ार सुबह का नही, किसी के लौट आने का है||
Kisi roz hogi roshan, Meri bhi Zindagi,
Intzaar subah ka nahi, Kisi ke laut aane ka hai.

Badi ajeeb si hai shehro ki roshni…

बड़ी  अजीब  सी  है  शहरों  की  रोशनी
उजालो के  बावजूद  भी  चेहरे  पहचानने  मुश्किल हैं ||
Badi ajeeb si hai shehro ki roshni
Ujalo ke bawjud bhi chehre pahchanne mushqil hain.

Lafzo ke bojh se thak jati hai zuban…

लफ़्ज़ों  के  बोझ   से  थक  जाती  है  जुबान  कभी-कभी
पता  नहीं ख़ामोशी  मज़बूरी  है  या   समझदारी ||
Lafzo ke bojh se thak jati hai zuban kabhi-kabhi
Pta nahi khamoshi majburi hai yeh samajhdari.

Bahut kamzor ho gae…

बहुत  कमज़ोर  हो  गए  हो  साहिब, जो  संभाल  नहीं  पाए  दर्द |
आखिर  कर  ही  लिया  मन  हल्का, गम कागज  पर  उतार  कर ||
Bahut kamzor ho gae ho saheb, jo smbhal nahi paye dard.
Akhir kar hi liya mann halka, Gum kagaz par utaar kar.