Farak Bahut Hai Teri Meri Taleem Mein

फर्क   बहुत   है   तेरी   और   मेरी   तालीम   में…
तूने  उस्तादों  से  सीखा  और  मैंने  हालातों  से ||
Farak bahut hai teri or meri taleem mein…
Tune ustado se seekha hai or maine halato se.

Ek Sukoon Sa Milta Hai

 

एक सकून सा मिलता है तुझे सोचने से भी…
फिर कैसे केहदु मेरा इश्क़ बेवज़ह सा है||
Ek sukoon sa milta hai tujhe sochne se bhi…
Fir kaise kehdu ke mera ishq bewajah sa hai.

Kitni Khamosh Muskuraht Thi

कितनी खामोश मुस्कराहट थी…
शोर बस आँख की नमी में था ||
Kitni khamosh muskuraht thi…
Shor bas ankhon ki nami mein tha.

Kuchh Bhula Nahi Pata

कुछ भुला  नहीं  पाता  सब  याद   रहता  है…
मोहब्बत  करने  वाला  इसलिए  बर्बाद  रहता  है ||
Kuchh bhula nahi pata sab yad rehta hai…
Mohabbat krne wala isiliye barbad rehta hai.

Abhi Dard Nhi Hua

अभी! दर्द नहीं हुआ है उनको…
अभी वो! इश्क नहीं समझेंगे ||
Abhi dard nhi hua hai unko…
Abhi wo ishq nahi smjhenge.

Labo pe uske kabhi…

लबो पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती ||
Labo pe uske kabhi Baddua nahi hoti,
Bass ek maa jo mujhse Khaffa nahi hoti.

Yeh esa karz hai jo…

यह ऐसा क़र्ज़ है जो मैं लौटा ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर नहीं लोटू मेरी माँ सजदे में रहती ||
Yeh esa karz hai jo main hi nahi sakta,
Main jab tak ghar nahi lotu meri Maa sajde mein rehti.

Bulandi der tak kis shakhs…

बुलंदी देर तक किस शख्स के हिस्से में रहती है,
बहुत ऊँची इमारत हर घढ़ी खतरे में रहती है ||
Bulandi der tak kis shakhs ke hisse mein rahti hai,
Bahut unchi imarat  har  garhi khatre mein rahti hai.

Abhi zindaa hai maa meri…

अभी ज़िंदा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,
मैं घर से जब निकलता हु दुया भी साथ चलती है||
Abhi zindaa hai maa meri mujhe kuchh bhi nahi hoga,
Main ghar se jab niklta hu Dua bhi saath chalti hai.

Bulandiyo ka bade se bada…

बुलंदियों का बड़े से बड़ा निशाँ छुआ
उठाया गोद में माँ ने तो आसमान छुआ ||
Bulandiyo ka bade se bada nishaan chhua
Uthaya  Godh  mein  maa  ne  to  asmaan  chhua.